पुलिस सर्वे में चौंकाने वाला खुलासा, रिश्तेदार ही बने हैवान

जयपुर। प्रदेश में नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म और छेड़छाड़ की घटनाओं को देखते हुए पुलिस द्वारा कराए गए सर्वे (Survey) में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। सर्वे में सामने आया कि पिछले एक साल में नाबालिग बच्चियों से हुए दुष्कर्म, छेड़छाड़ और हत्या के मामले में 89 फीसदी आरोपित या तो रिश्तेदार या फिर परिचित निकले हैं। इनमें से भी नौ फीसदी मामलों में सौतेले पिता या भाई को दोषी माना गया है। प्रदेश में सिर्फ 11 प्रतिशत पीडि़त बच्चियां ही ऐसी हैं, जो अनजान लोगों की गंदी नजर से गुजरी है। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (क्राइम) का कहना है कि अधिकांश मामलों में बेहद नजदीकी रिश्तेदार ही आरोपित निकले है।

नाबालिग बच्चियों पर सबसे ज्यादा बुरी नजर :

सर्वे रिपोर्ट (Survey Report) को गंभीरता से देखें तो 18 वर्ष से कम उम्र की बच्चियों पर बुरी नजर के हालात काफी चिंताजनक है। प्रदेश पुलिस की सिविल राइट्स विंग ने बच्चियों के साथ हुए अपराध के बारे में एक रिपोर्ट तैयार की है। उम्र के हिसाब से सर्वे रिपोर्ट के अनुसार 0 से 6 छह वर्ष की बच्चियों के साथ 3 प्रतिशत, 6 से 12 वर्ष की बच्चियों के साथ 19 प्रतिशत, 13-16 वर्ष की किशोरियों के साथ 46 प्रतिशत और 16 से 18 वर्ष की बच्चियों के साथ 32 प्रतिशत लोगों ने दुष्कर्म किया है।

सतर्क रहें माता-पिता :

इस सर्वे से साफ होता है कि यदि बच्चियों के माता-पिता खुद सतर्क रहें और अपने परिचितों पर नजर रखें तो नाबालिग बच्चियों के साथ होने वाली दुष्कर्म व छेड़छाड़ की घटनाओं से बचा जा सकता है। अब पुलिस एक अभियान चलाकर माता-पिता को समझाएगी कि वे बच्चों को गुड और बैड टच के बारे में जानकारी दें, ताकि कुछ हद तक इस पर लगाम लग सके।

CAB को लेकर असम में विरोध जारी, जापान PM शिंजो आबे का भारत दौरा टला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *