मुख्यमंत्री पर कानुन व्यवस्था सम्भालने की जिम्मेदारी, वे खुद ही लोगों को भडक़ा रहे हैं-सतीश पूनियां

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने प्रैस वार्ता को सम्बोधित किया
कोटपूतली। शनिवार देर शाम सुरजगढ़ में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के बाद जयपुर लौटते वक्त भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने कोटपूतली में राजमार्ग स्थित आरटीएम होटल में पत्रकारों को सम्बोधित किया। नागरिकता संशोधन कानुन पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर कानुन व्यवस्था को बनाये रखने की जिम्मेदारी हैं लेकिन वे खुद ही लोगों को भडक़ा कर बार-बार संवैधानिक मर्यादाओं का उल्लंघन कर जनता को मोदी सरकार के खिलाफ भ्रमित कर रहे हैं। पूनियां ने आरोप लगाया कि संविधान की शपथ लेकर सरकार चला रहे मुख्यमंत्री भारत की संसद द्वारा पारित कानुन को सडक़ पर उतर कर चुनौती दे रहे हैं।

मुख्यमंत्री गहलोत खुद भी यूपीए शासन में राजस्थान के हिन्दू व सिक्ख शरणार्थियों को नागरिकता देने की वकालत कर चुके हैं। अब वे वोट बैंक एवं गाँधी परिवार को खुश करने के लिए इसका विरोध कर रहे हैं। यह प्रदेश की जनता का दुर्भाग्य है कि उनका चुना हुआ मुख्यमंत्री देश की भावनाओं के खिलाफ बात कर रहा हैं। धर्म के आधार पर देश के दुर्भाग्यपूर्ण बंटवारे के बाद जिस गंभीर समस्या की वजह से पाकिस्तान  व बांग्लादेश में लाखों अल्पसंख्यकों की हत्या, जबरन धर्मान्तरण व बालिकाओं के साथ बलात्कार की घटना हुई।

यही हाल बचे हुए देशों का भी हैं। यही नहीं बंटवारे के वक्त भी इन हिन्दू अल्पसंख्यकों की रक्षा करने का वादा तबकी कांग्रेस सरकार ने किया था लेकिन सत्ता मिलने के बाद कभी सुध नहीं ली। आज जब देश की भाजपा सरकार उन्हें नागरिकता देकर मूल परम्परा का पालन कर रही हैं तब इन्हें पेट में दर्द क्यों हो रहा हैं।

निर्भया केस के आरोपियों के पास 7 दिन का मौका, जेल प्रशासन ने दिया नोटिस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *